Total Pageviews

Sunday, 22 May 2011

इस "बम" को मार डालो.........

हमको भी बम ने मारा
तुमको भी बम ने मारा
हम सब को बम ने मारा 
इस बम को मार डालो
इस बम को मार डालो
हमको भी बम ने... 
तुमको भी बम ने... 
हम सब को बम ने...  
इस बम को मार डालो...


  बम क्या करता है…..?


ये बम नही समझता
बिन सोच के ये फट ता.
हिंदू, सिख, मुसलमा
इनसा ही इस से मारता,
इनसा ही इस से मारता
अब बम का नाम ना लो…..
 इस बम को मार डालो
हमको भी बम ने...
तुमको भी बम ने ...
हम सब को बम ने... 
इस बम को मार डालो
 इस बम को मार डालो....]
... ये " बम " क्या चीज है.....?

मीठे मे खार है... बम
खुशियो पे वार है... बम,
आंतन्की मार है...बम,
नफरत का सार है...बम,
नफरत का सार है...बम
बम बनाने वालो,
इस बम को मार डालो...
हमको भी बम ने...
तुमको भी बम ने...
हम सब को बम ने...
इस बम को मार डालो.... 

३.जवाब दारो को क्या करना चाहिये ...?
सियासत कि चाले छोडो 
अब दिल से दिल को जोडो
नफरत के बम ना फोडो
इस देश को ना तोडो
इस देश को ना तोडो
फितरत  फैलाने वालों
इस बम को मार डालो
हमको भी बम ने...
तुमको भी बम ने...
हम सब को बम ने... 
इस बम को मार डालो
इस बम को मार डालो...

                             इस बम को मार डालो...
हमको भी बम ने मारा
तुमको भी बम ने मारा
हम सब को बम ने मारा 
इस बम को मार डालो
इस बम को मार डालो
हमको भी बम ने... 
तुमको भी बम ने... 
हम सब को बम ने...  
इस बम को मार डालो...

- - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - 
                       
                



.

                                    

                                   .


                                                                                              

6 comments:

विवेक said...

atayant sundar avam gambhir vayang rachana hai rajendra ji

Nagar said...

kavi raj aapki kavita to dil ko chu gai......very good massage

Gurukripa said...

kaviraj apki kavya rachana hriday me ek bomb phod gayi aur mujhe sochne par majbur gayi ki is bomb ne kitne parivaro ko tabah kar diya he.atyant sundar rachana he kaviraj.

ROHIT BHUSHAN said...

बहुत बढ़िया सुर लगाया है, आपने...keep it up....

vedvyathit said...

bm ko nhi bm bnane valon aur us vichardhara ko jo bm bnvati hai

मदन शर्मा said...

हे अचल, अविनाशी भोले
हमको तेरी शरण मिले
करुणामय, हे रूद्र, महेश्वर
मन में प्रेम की ज्योत जले
bahut sundar post hai ..
badhai aapko bhi dost,