Total Pageviews

Sunday, 22 May 2011

इस "बम" को मार डालो.........

हमको भी बम ने मारा
तुमको भी बम ने मारा
हम सब को बम ने मारा 
इस बम को मार डालो
इस बम को मार डालो
हमको भी बम ने... 
तुमको भी बम ने... 
हम सब को बम ने...  
इस बम को मार डालो...


  बम क्या करता है…..?


ये बम नही समझता
बिन सोच के ये फट ता.
हिंदू, सिख, मुसलमा
इनसा ही इस से मारता,
इनसा ही इस से मारता
अब बम का नाम ना लो…..
 इस बम को मार डालो
हमको भी बम ने...
तुमको भी बम ने ...
हम सब को बम ने... 
इस बम को मार डालो
 इस बम को मार डालो....]
... ये " बम " क्या चीज है.....?

मीठे मे खार है... बम
खुशियो पे वार है... बम,
आंतन्की मार है...बम,
नफरत का सार है...बम,
नफरत का सार है...बम
बम बनाने वालो,
इस बम को मार डालो...
हमको भी बम ने...
तुमको भी बम ने...
हम सब को बम ने...
इस बम को मार डालो.... 

३.जवाब दारो को क्या करना चाहिये ...?
सियासत कि चाले छोडो 
अब दिल से दिल को जोडो
नफरत के बम ना फोडो
इस देश को ना तोडो
इस देश को ना तोडो
फितरत  फैलाने वालों
इस बम को मार डालो
हमको भी बम ने...
तुमको भी बम ने...
हम सब को बम ने... 
इस बम को मार डालो
इस बम को मार डालो...

                             इस बम को मार डालो...
हमको भी बम ने मारा
तुमको भी बम ने मारा
हम सब को बम ने मारा 
इस बम को मार डालो
इस बम को मार डालो
हमको भी बम ने... 
तुमको भी बम ने... 
हम सब को बम ने...  
इस बम को मार डालो...

- - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - 
                       
                



.

                                    

                                   .


                                                                                              

Wednesday, 11 May 2011

वंदे मातरमं . . .

      
शहीदों  को  नमन.....




जिन्होंने भारत की आजादी के लिए,

होनेवाले "महायज्ञ"  में,
  
अपना जीवन  "समर्पित" किया . . . .

 

बलिदान हो के , 

        हमको दे गए जो  "वतन"  है,

वीरान था जो बाग़...

               कर गए वो  "चमन" है,

आजादी के दीवाने ...

                बन गए जो "मसीहा",

उन वीर  "शहीदों" को,

                बार - बार...  "नमन" है,


                        . . . जय हिंद - जय भारत   . . .


hasyakviraj @gmail .com 
. . . . . . . . . . . . . . . . . . .  . . . . . . . . . . . . . . . . .            



Tuesday, 10 May 2011

. . . कामना . . .

                                

 . . . 
 मां . . .



"लाड" से "ललन" को,


                            "सवांरती" हैं... मां


प्यार से "बचपन" को
,


                          "निहारती" हैं ... मां


"उलझन" में अपने "योवन" को 


                           "गुजारती" हैं... मां

वो सारे सुख,  "मन" से,


                            "बिसारती" हैं... मां


काटा हैं "वक्त" सारा,


                        घर की "देखभाल" में


"बिस्तर" पकड लिया हैं,


                      "पिच्चहतर" वे साल में

ओर............................


"एहसान"  नही,


"सेवा प्यार"..... "मांगती" हैं... मां


जब..........................


"कर्ज'" "दूध" का,


"ललन" से "मांगती" हैं... मां


. . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . .


Sunday, 8 May 2011


                                                    
             
 . . . " ठिकाना ". . . 

 
        भोले है ....

                                                   भावनाओं  मे... "बहते" है,
 
                                            कुदरत का... "कहर" 

                                                   हंसते - हंसते... "सहते"  है,

                                            आप जैसा "दोस्त" -  

                                                  जब "दिल" से पूछे..........
                                                           
                                                               हमारा  -  "ठिकाना" 

                                                   तो, 
                                                            कहते है, की ....

                                               हम  आपके  "दिल"  मे रहते है..
 - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - -